રવિવાર, 23 ઑગસ્ટ, 2015

हम जानसे गये॥

कभी शानसे गये, कभी आनसे गये।
तेरे इश्कमें सनम, हम जानसे गये॥

हूआ करते थे हम भी बहुत मशहूर।
सामने आये वो, हम पहेचानसे गये॥

खुदा तेरी खुदाईकी क्या मिसाल दु?
की बंदगी
बहुत, हम ईमानसे गये॥

हो गया मग्न इतना मुल्ला बंदगीमें।
कंई सारे कलमे आज
कुरासे गये॥

कत्ल हूए हम एक कातिल नजरोसे ।
हम आखरी वक्तके सामानसे गये ॥

करके वादा युगो तक साथ निभानेका।
सनम हमारे अपनी ही
ज़बानसे गये ॥

न वो कुछ कह शके,न हम सुन शके।
फ़तूर न था ओर हम समाधानसे गये॥

वो आये,चले गये महेफिलसे युं नटवर।
जीते जी हमभी खामखां जहानसे गये॥

ટિપ્પણીઓ નથી:

ટિપ્પણી પોસ્ટ કરો

આપના હર સુચનો, કોમેન્ટસ આવકાર્ય છે. આપનો એ બદલ આભારી છું